फरीदाबाद में आयोजित 30वाँ सूरजकुंड अंतर्राष्टीय मेला

National
Save

Business Mantra: Faridabad

हरियाणा पर्यटन विभाग द्वारा प्रतिवर्ष फरवरी के महीने में सूरजकुंड शिल्प मेला का भव्य आयोजन किया जाता है। हर साल सूरजकुंड मेले का आयोजन फरीदाबाद के क्षेत्र में हथकरघा, हस्तशिल्प व ग्रामीण माहौल को दर्शाते हुए पांरपरिक भारतीय हस्तशिल्प को बढ़ावा देने के लिए किया जाता है।

इस वर्ष 30 वें अंतर्राष्ट्रीय सूरजकुंड मेले का आयोजन 1 फरवरी से किया गया और माननीय मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर व हरियाणा पर्यटन के ब्रांड एंबेसडर माननीय धर्मेद जी ने रिबन काटकर इसका शुभारंभ किया । तदपश्चात् तेलगांना राज्य की थीम के अनुसार चौपाल पर तेलगांना की नौटंकी और डांस का आयोजन किया गया।

हर साल, सूरजकुंड शिल्प मेले का डिजाइन एक थीम के रूप में भारतीय राज्य का चयन करके तदनुसार पूरे मेले को उसी राज्य के डिजाइन एवम् कलाकृतियो के अनुसार सुसज्जित किया जाता है।

सूरजकुंड मेला पहली बार 1981 में लगाया गया था और उसके पश्चात् से ही हर वर्ष भव्य मेले का आयोजन किया जाता है। यह छोटे बुनकरो और कारीगरों को उनकी कला का प्रदर्शन करने हेतु एक बड़ा मंच प्रदान करता है।

एक लंबे समय तक आयोजित सूरजकुंड शिल्प मेले में भारत के कुशल कलाकार और भिन्न राज्यो के शिल्प कलाकार दर्शकों को रुझाने के लिए अपनी स्टाल लगाकर हाथ से बनी विभिन्न वस्तुओं जिसमें कुशल चित्र , हाथीदांत के काम, मिट्टी के बर्तन से बनी चीजे शामिल है, की प्रदर्शनी लगाते है और केवल कलाकृति की ही प्रदर्शनी नहीं अपितु लोक नृत्य , संगीत की शाम के रुप में रंगमंच कार्यक्रमो का भी आयोजन करते है।

About the author

admin